+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

IMA ने डॉक्टर्स और अस्पतालों के लिए नए गाइडलाइंस लाया

health Capsule

नई दिल्ली। बीते दिनों में अस्पतालों की लापरवाही के कई मामले सामने आने के बाद अब इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने डॉक्टर्स और अस्पतालों के लिए कुछ गाइडलाइंस और सुधार जारी की हैं इसे आईएमए का हेल्थकेयर सेक्टर में क्राइसिस कंट्रोल माना जा रहा है

31 नियमों की इस लिस्ट में ओवर चार्जिंग, जरूरत से ज्यादा टेस्ट लिखना, मरीजों को बेड की उपलब्धता से लेकर हर सर्विस की सही कीमत की जानकारी देना, यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार ट्रांसजेंडर पॉलिसी लाना तक शामिल है

आईएमए के प्रेसिडेंट केके अग्रवाल के मुताबिक, अस्पतालों की मुनाफाखोरी में बदलाव लाने की जरूरत है. ये नियम बिल्कुल नई तरह के नहीं हैं, लेकिन इनकी मदद से करप्शन और कदाचार को रोकने में मदद करेंगे उनका कहना है कि कहीं न कहीं अस्पतालों की लापरवाही से सब नाराज है और इसके बाद लोगों की डॉक्टरों के बारे में अच्छी राय नहीं है जिसमें बदलाव की जरूरत है

मरीजों को हो जाएगी आसानी

इन गाइडलाइनों के जारी होने के बाद मरीजों को काफी आसानी होगी. इनके मुताबिक, अस्पतालों को मरीजों को बताना होगा कि उनकी तरफ से सुझाए गए टेस्ट मरीज के लिए क्यों जरूरी हैं, अस्पताल को बताना होगा कि किस वार्ड की सुविधा कितनी कीमत पर उपलब्ध हैं, जरूरतमंद मरीजों को सर्विस और सुविधाओं की जानकारी देने के लिए एक टीम होगी, डॉक्टरों को मरीज के इलाज में लगने अनुमानित रकम की जानकारी देनी होगी, डॉक्टर्स एक बार मरीजों को भर्ती करने के बाद उन्हें नजरअंदाज या दूसरे हॉस्पिटल में शिफ्ट करने को नहीं कर सकते और इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों और डिवाइस डॉक्टरों को तय करना होगा, न कि अस्पताल प्रबंधन को

सरकारों से भी अपील

आईएमए ने सभी अस्पतालों की बैठक बुलाई जिसमें

Enquiry Form