+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

ये है अनोखा चाइल्ड अस्पताल, जहां कैश काउंटर नहीं है

health Capsule

रायपुर, प्रशांत गुप्ता। नया रायपुर का श्रीसत्य साईं संजीवनी अस्पताल...चलिए सबसे पहले कैश काउंटर तो देख लें, डॉक्टर की फीस कितनी है पूछ लें... मगर यह क्या? यहां तो कैश काउंटर ही नहीं बना है। बिल्कुल सही, बच्चों के इस हार्ट अस्पताल में किसी मरीज से फीस या ऑपरेशन का खर्च ही नहीं लिया जाता। यह अस्पताल देश की सीमा से बाहर, चाहे वह दोस्त हो या दुश्मन देश, वहां के बच्चों का भी सहर्ष मुफ्त इलाज करता है।

 

भारत- पाकिस्तान के बीच तनाव कभी खत्म नहीं होता, सीमा पर बंदूकें तनी रहती हैं। इस तनाव केबीच यह अस्पताल पाकिस्तान के बच्चों के दिल के छेद भर रहा है। इनके लिए सेवा ही धर्म है और इलाज मजहब। अब तक 9 पाकिस्तानी बच्चों की सर्जरी हो चुकी है, और वेटिंग में है। देश, विदेश के उन माता-पिता के लिए किसी मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे, गिरजाघर से कम नहीं, जहां उनके बच्चों को जीवनदान मिलता है। दिल के छेद बगैर कोई शुल्क लिए भर दिए जाते हैं। इलाज का पूरा खर्च अस्पताल प्रबंधन वहन करता है। यही वजह है कि दुश्मन मुल्क पाकिस्तान हो या अन्य देश के बच्चे, जिनके अपनों के पास इलाज के लिए 2-5 लाख रुपए नहीं होते हैं, वे छत्तीसगढ़ के इस अस्पताल की तरफ दौड़ लगाते हैं। 2014 से आज तक 3922 दिल की सर्जरी हो चुकी है। हाल ही में कैथलैब यूनिट भी स्थापित की गई है, जहां एंजियोग्राफी, एंजियोप्लास्टी भी शुरू हो चुकी है।

 

2014 में अस्पताल में पहली सर्जरी हुई। उसके बाद तो हर महीने 100 सर्जरी का सिलसिला चल पड़ा। 2015 में जहां 1 हजार बच्चों के दिल के छेद बंद किए गए, वहीं 2016 में 1224 और 2017 में अब तक ये आंकड़ा 1100 जा पहुंचा है। श्रीसत्य साईं हेल्थ एंड एजुकेशन ट्रस्ट, बेंगलुरू द्वारा अस्पताल संचालित किया जा रहा है। भारत में ट्रस्ट के हृदय रोग से संबंधित 4 अस्पताल हैं, नवी मुंबई और हरियाणा में नए अस्पताल का निर्माण जारी है।

 

16 साल तक बच्चों का इलाज-

यह अस्पताल बच्चों और किशोरों के लिए है, जहां 0-16 साल तक के बच्चों के सिर्फ दिल का इलाज किया जाता है। मरीजों को निश्चित तारीख दी जाती है। सभी टेस्ट करवाए जाते हैं और फिर सर्जरी की जाती है। 2-3 दिन में छुट्टी दे दी जाती है। जाते-जाते लोग डॉक्टर्स, अस्पताल प्रबंधन को दुआएं देकर जाते हैं।


रोजाना मरीजों के नाम पर होती है प्रार्थना

अस्पताल का अपना प्रोटोकॉल है, जो पूरी तरह से भारतीय संस्कृति पर आधारित है। इसके तहत जिन भी मरीजों का इलाज होना है, उनके लिए रोजाना प्रार्थना होती है। बाकायदा एक दिन पहले मरीजों के नाम जारी किए जाते हैं। इस प्रार्थना में मरीज, उनके परिजन, डॉक्टर और स्टाफ सभी शामिल होते हैं।

 

देशभर के मरीज पहुंचते हैं

Enquiry Form

Our Address:

N.H/115 B,
Neelam Railway Road NIT-5
Faridabad, Haryana - 121001
Mobile:+91 - 946-736-0600
Email: healthcapsule1@gmail.com

Our Associates

Newsletter Sign Up