+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

पेट से तीन किलो की तिल्ली निकाली

health Capsule

 फरीदाबाद  सेक्टर- 21 स्थित एशियन अस्पताल के डॉक्टरों की टीम ने एक थैलेसीमिया ग्रस्त इराकी मरीज का सफल ऑपरेशन कर करीब 3 किलोग्राम का पेट से तिल्ली निकाली। इसके कारण उसका वजन सामान्य से ज्यादा हो गया था। इसके साथ वह लकवे का शिकार हो गया था। थैलेसीमिया ग्रस्त होने के कारण उसे प्रत्येक 15 दिनों पर खून चढ़ाना पड़ता है। यह जानकारी अस्पताल के सर्जन डॉ. वेद प्रकाश ने दी।

उन्होंने बताया कि 27 वर्षीय थैलेसीमिया ग्रस्त अला अब्दुल्ला को प्राथमिक उपचार के लिए लाया गया था। बीमारी के कारण उसमें खून की मात्र और प्लेटलेट में लगातार गिरावट आ रही रहती थी। थैलेसीमिया ग्रस्त होने के कारण उन्हें डॉ. प्रशांत मेहता और डॉ. राहुल अरोड़ा सहित कई विभाग के डॉक्टरों ने जांच किया था। जांच के बाद डॉ. प्रशांत मेहता ने बताया कि मरीज में बोनमैरो में बनने वाला रक्त विशुद्ध हो जाता है, जिससे बोनमैरो के अलावा कई जगहों पर रक्त बनना शुरू हो जाता है, इसके कारण उनमें गांठ बन गई थी। उन्होंने बताया कि सामान्य व्यक्ति में तिल्ली महसूस नहीं होती, लेकिन रक्त के गांठ में परिवर्तित होने से यह नाभि तक बढ़ जाता है।

वहीं, डॉ. राहुल ने बताया कि मरीज को पिछले दो महीनों से शरीर के निचले हिस्से में कमजोरी की शिकायत और लकवे की शिकायत थी। इसके उपचार के लिए वह अस्पताल आया था। जांच के दौरान उसमें यह बीमारी पाई गई। जांच के दौरान पाया गया कि मरीज की स्लीन लंबाई 34 सेंटीमीटर बढ़ गई थी। जबकि यह 7 से 14 सेंटीमीटर तक होता है। इसके कारण यकृत की आकर अत्याधिक बढ़ गई थी। जांच के बाद अस्पताल के सर्जन डॉ. वेद प्रकाश ने सर्जरी की सलाह दी। उन्होंने बताया कि तिल्ली की वजन 150 ग्राम होता है, लेकिन मरीज में 3 किलोग्राम था। इस दौरान न्यूरोसर्जन डॉ. कमल वर्मा की भी सलाह ली गई थी।

Enquiry Form