+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

कमजोर घुटनों को मजबूत बनाने के लिए रोजाना कर सकते हैं ये 5 एक्सरसाइज

health Capsule

  • घुटनों के लिए स्ट्रेचिंग एक बेहतरीन एक्सरसाइज होती है।
  • नियमित साइकिलिंग करने से भी कई लाभ मिलते हैं।
  • अपने वजन को उम्र, ऊंचाई एवं शारीरिक बनावट के हिसाब से उचित बनाए रखें।

घुटने का दर्द या घुटने कमजोर होने की समस्या आमतौर पर या तो किसी दुर्घटना में लगी चोट या फिर घुटने पर बहुत ज्यादा दबाव पड़ने से होता है। कई बार हमारी रोजमर्रा की गतिविधियां जैसे वॉकिंग, रनिंग, जंपिंग या सीढ़ियां चढ़ने से घुटने पर बहुत ज्यादा दबाव पड़ सकता है और घुटने धीरे धीरे कमजोर पड़ सकते हैं, हालांकि कुछ व्‍यायामों का नियमित अभ्यास कर हम घुटनों को मजबूत बना सकते हैं। आज हम आपको घुटनों को मजबूत बनाने के लिए आपको कुछ आसान तरीके बता रहे हैं।

  • घुटनों के दर्द से या कमजोर घुटनों को मजबूत बनाने के लिये मसल स्ट्रेचिंग एक बेहतरीन एक्सरसाइज होती है। ऐसे कई स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज हैं, जैसे हैम्स्ट्रिंग स्ट्रेचिंग जो घुटने के लिए काफी अच्छे होते हैं।
  • साइकलिंग चाहे जिम साइकिल पर हो या खुले में, दोनों से घुटने मजबूत बनते हैं। साइकलिंग से पैर और घुटने मजबूत होते हैं और घुटने का अस्थिरज्जु और मसल्स भी मजबूत होते हैं।

    स्टेपिंग या स्टेप अप्स एक कार्डियो एक्सरसाइज है, जिसके कई फायदे हैं, जिनमें से एक है मजबूत घुटने। स्टेप अप एक्सरसाइज घुटने को गर्मी प्रदान  कर उसपर से तनाव कम करता है। अगर आप घुटनों को मजबूत करना चाहते हैं तो इस एक्सरसाइज को कर सकते हैं।

    मैट एक्सरसाइज

    कुछ मैट एक्सरसाइज जैसे लेग लिफ्ट, नी लिफ्ट आदि में घुटने के मसल्स स्ट्रेच होते हैं, जिससे घुटने मजबूत बनते हैं और उनका दर्द कम होता है। मैट एक्सरसाइज को आप घर पर भी कर सकते हैं। 

    एक्सपर्ट्स व फिजियोथेरेपिस्ट का मार्गदर्शन लें

    घुटनों का खयाल रखने के लिये जिम में हमेशा एक्सपर्ट्स व फिजियोथेरेपिस्ट के निर्देशन में ही एक्सरसाइज करना चाहिए। नियमित रूप से डॉक्टर या फिजियोथेरेपिस्ट द्वारा बताए गए घुटनों के विशिष्ट व्यायाम करना फायदेमंद होता है। 

    वजन को काबू में रखें

    अपने वजन को उम्र, ऊंचाई एवं शारीरिक बनावट के हिसाब से उचित बनाए रखना चाहिए। इसके लिए प्रिवेंटिव फिजियोथेरेपी के अन्तर्गत विशेष व्यायाम करना चाहिए। अपना वजन नियंत्रित रखें क्योंकि ज्यादा वजन से घुटने तथा कूल्हों पर दबाव पड़ता है।

    थोड़ा आराम भी करें

    आमतौर पर 1 से डेढ़ घंटे लगातार खड़े रहने के बाद घुटनों को 5 से 10 मिनट का आराम देना चाहिए। इसके अलावा चप्पल व जूते आदि सही आकार-प्रकार का बेहद ध्यान रखना चाहिये। एक्सरसाइज के लिये और दफ्तर के लिये उसी हिसाब से फुटवियर चुनना चाहिये।

Enquiry Form