+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

हार्ट फेल से पहले अलर्ट कर देगी ‘धड़कन’ APP

health Capsuleरुड़की। हार्ट फेल्योर के खतरे से जूझ रहे मरीजों के लिए एक राहत भरी खबर है। रुड़की स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के कंप्यूटेशनल ग्रुप ने एक ऐसा मोबाइल app बनाया है, जिसमें हार्ट फेल की आशंका होने पर यह एप मरीज और उसके चिकित्सक को पहले ही अलर्ट कर देगा। ऐसे में समय रहते इलाज मिलने पर मरीज का जीवन बचाया जा सकेगा। 
आइआइटी रुड़की के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ. दीपक शर्मा के नेतृत्व में कंप्यूटेशनल बायोलॉजी ग्रुप ने ‘धड़कन’ नाम से एक मोबाइल appबनाया है। इस एप के माध्यम से हार्ट फेल्योर के खतरे से ग्रसित रहे मरीजों का रक्तचाप, हृदय गति दर और वजन में तेजी से बदलाव होने पर यह जानकारी चंद सेकंड में उसके डॉक्टर तक पहुंच जाएगी, जिससे समय रहते जानकारी मिलने पर मरीज की जान बचाई जा सकेगी। 
डॉ. दीपक शर्मा के अनुसार, देश में लगभग एक करोड़ मरीज हार्ट फेल्योर के खतरे से जूझ रहे हैं। ऐसे में धड़कन मोबाइल app इन मरीजों के लिए फायदेमंद साबित होगा। यह app मरीज और उसका इलाज कर रहे डॉक्टर के मोबाइल पर होगा या फिर जिस अस्पताल में मरीज का इलाज चल रहा है उसके पास होगा। डॉ. शर्मा ने बताया कि आमतौर पर हार्ट फेल्योर के खतरे से जूझ रहे मरीजों के रक्तचाप एवं हृदय गति की दर में एक सप्ताह में करीब दस फीसद तक अंतर और वजन एक किलो घट या बढ़ सकता है।
इन बदलावों पर संबंधित मरीज तुरंत अपनी धड़कन का डाटा मोबाइल app के जरिये डॉक्टर को उपलब्ध करा सकता है। उनके अनुसार, यह बदलाव एक सप्ताह से कम समय भी दिखाई दे सकते हैं। मरीज इस प्रकार के बदलावों को महसूस करें, वह तुरंत ही रक्तचाप, हृदय गति की दर और वजन का माप कर सकता है।
उन्होंने बताया कि यह चिकित्सकों और मरीजों के बीच पारस्परिक संचार की सुविधा मुहैया करवाता है। आवश्यक होने पर इसके जरिये मरीज चिकित्सक को ईसीजी रिपोर्ट भी भेज सकते हैं। उनके अनुसार, अस्पताल में भर्ती हार्ट फेल्योर के खतरे वाले मरीजों में से लगभग एक तिहाई अगले तीन से छह महीनों के अंदर फिर से अस्पताल में भर्ती होते हैं या उनकी मौत होने की आशंका बनी रहती है।
इस app का निर्माण कंप्यूटेशनल बायोलॉजी लेबोरेटरी के सोमेश चतुर्वेदी (बीटेक बायोटेक्नोलॉजी चतुर्थ वर्ष छात्र), श्रेया श्रीवास्तव (पीएचडी बायोटेक्नोलॉजी की प्रथम वर्ष की छात्रा) ने किया है। इसमें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली (एम्स) के प्रो. संदीप सेठ और गोपीचंद्रन का भी सहयोग रहा। एम्स में हार्ट फेल्योर के खतरे से जूझ रहे एक सौ मरीजों पर इस app को लेकर ट्रॉयल शुरू कर दिया गया है। एप को गूगल प्ले स्टोर से मुफ्त डाउनलोड किया जा सकता है। 
from Dainik Jagran

Enquiry Form