+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

दूषित हवा में सांस लेने को मजबूर दुनिया की 95% आबादी

health Capsuleनई दिल्ली । अमेरिका के हेल्थ इफेक्ट्स इंस्टीट्यूट की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में 95 फीसद से भी अधिक लोग प्रदूषित हवा में सांस ले रहे हैं। स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर रिपोर्ट बताती है कि 2016 में वायु प्रदूषण ने दुनियाभर में तकरीबन 60 लाख लोगों की जान ली।
जहरीली हवा दुनिया में मृत्यु का चौथा सबसे बड़ा कारण बन गई है। सिर्फ चीन और भारत में ही वायु प्रदूषण से होने वाली कुल मौतों में से 50 फीसद मौतें होती हैं। वायु प्रदूषण का सर्वाधिक प्रतिकूल असर गरीब देशों में देखने को मिल रहा है।
गरीब देशों पर सर्वाधिक प्रभाव
वायु प्रदूषण का सबसे ज्यादा असर गरीब देशों और गरीब समुदायों पर पड़ रहा है। सर्वाधिक प्रदूषित और सबसे कम प्रदूषित देशों के बीच का अंतर तेजी से बढ़ रहा है। यानी गरीब देशों में प्रदूषण के चलते अधिक बीमारियां और संकट पैदा हो रहे हैं। अमीर देश वायु प्रदूषण के खतरनाक असर से तुलनात्मक रूप से सुरक्षित हैं।
देश में स्थिति गंभीर
भारत में अब भी ठोस ईंधन जलाया जाता है। चीन में भी कोयले पर पूरी तरह रोक नहीं लग सकी है। इससे होने वाले घरेलू प्रदूषण का असर आसपास के क्षेत्र में भी फैलता है। यही वजह है कि दुनिया में वायु प्रदूषण से होने वाली हर चार मौतों में से एक भारत में और हर पांच मौतों में से एक चीन में होती है।
सुधर सकते हैं हालात
1990 में दुनिया में कुल 3.6 अरब लोग ठोस ईंधन जलाने के कारण प्रदूषण का शिकार होते थे। 2016 में यह आंकड़ा घटकर 2.4 अरब रह गया है। अगर आने वाले कुछ वर्षों में दुनिया में लकड़ी और कोयले के जलावन पर पूरी तरह रोक लगाई जा सके तो इससे काफी सुधार हो सकता है। 
चीन ने कोयले का इस्तेमाल रोकने के लिए कड़े प्रयास शुरू कर दिए हैं। भारत में भी खाना पकाने के लिए ग्रामीण व गरीब आबादी को एलपीजी सिलेंडर दिए जा रहे हैं। ऐसे प्रयासों का सकारात्मक नतीजा देखने को मिल सकता है।
अंतरराष्ट्रीय मानक
विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों के अनुसार पीएम 2.5 सूक्ष्म कणों की वायु में मौजूदगी 10 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।
जानलेवा प्रदूषण
शहरों में बाहरी प्रदूषण लोगों को नुकसान पहुंचा रहा है। गांवों में लकड़ी और कोयला जलाने से घरेलू प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है।

हर तीन में से एक शख्स घार और बाहर दोनों जगह दूषित हवा में सांस लेता है

लगातार जहरीली हवा के संपर्क में आने से दिल के दौरे, स्ट्रोक, फेफड़ों के कैंसर और श्वास संबंधी बीमारियां होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।

 इसके चलते वायु प्रदूषण दुनिया में मृत्यु का चौथा सबसे बड़ा कारण बन गया है।

from Dainik Jagran

Enquiry Form