+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

रंग असली है या नकली, ऐसे करें पहचान

health Capsuleहोली का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारी आंखों के आगे रंग, भांग और गुजिया की तस्वीरें आ जाती हैं। हर किसी को रंगों से खेलना पसंद होता है। पुराने समय में होली पर इस्तेमाल होने वाले रंग हल्दी, चंदन, गुलाब और टेसू के फूल से बनाये जाते थे, लेकिन अब बाजार में धड़ल्ले से केमिकल रंग बेचे जाते हैं जो कि हमारी त्वचा, बालों और आंखों के लिए नुकसानदायक होते हैं। इन रंगों से स्किन एलर्जी, जलन, बालों का खराब होना जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। जिसे देखते हुए पिछले कुछ सालों में हर्बल और प्राकृतिक रंगों की मांग बढ़ी है। लेकिन कई बार हम बाजार से हर्बल रंग समझ धोखा खाकर केमिकल कलर घर ले आते हैं। आज हम आपको बताएंगे कैसे असली ऑर्गेनिक रंग की पहचान करें...
 केमिकल रंगों के दुष्प्रभाव को देखते हुए आजकल लोग ऑर्गेनिक रंगों का चयन कर रहे हैं, लेकिन कई बार जिन रंगों के ऊपर इको-फ्रेंडली, नेचुरल या ऑर्गेनिक लेबल लगा देखकर हम खरीद लाते हैं वह असल नहीं होते। झूठे लेबल वाले रंगों के उत्पादों से सावधान रहें। रंग को खरीदते वक्त ध्यान दे कि रंग में से किसी तरह के केमिकल या पेट्रोल की गंध तो नहीं आ रही। रंग खरीदते वक्त आप थोड़ा सा रंग लेकर उसे पानी में घोल कर देखें। यहि रंग पानी में नहीं घुलता तो इसका मतलब है कि उसमें केमिकल हो सकता है। ऐसे रंगों को न खरीदे। 
रंग खरीते वक्त देखें की उसमें  चमकदार कण तो नहीं, क्योंकि नेचुरल रंगों में चमक नहीं होती साथ ही यह डार्क शेड में नहीं मिलते हैं। इसलिए रंग खरीदते वक्त गहरे रंग का चुनाव न करें।आप चाहे तो घर पर भी रंग तैयार कर सकते हैं। इसके लिए बेसन और हल्दी को मिलाकर पीला रंग तैयार कर सकते हैं। यह आपकी स्किन के लिए भी अच्छा होगा। गुड़हल के फूलों के सूखे पत्तों के पाउडर को आटे के साथ मिला कर लाल रंग तैयार करें। From amarujala
Enquiry Form