+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

दिल की बीमारी के साथ बच्चों में कई अन्य रोगों का खतरा

health Capsuleनई दिल्ली। हृदय समस्या के साथ जन्म लेने वाले बच्चों में स्वास्थ्य संबंधी दूसरी कई दिक्कतों का भी खतरा रहता है। नए अध्ययन का दावा है कि ऐसे बच्चों को तंत्रिका तंत्र संबंधी रोग डिमेंशिया का भी सामना करना पड़ सकता है। सामान्य लोगों की तुलना में इनके इस रोग की चपेट में जाने का खतरा 60 फीसद ज्यादा रहता है। यह निष्कर्ष 10 हजार प्रतिभागियों पर किए गए अध्ययन के आधार पर निकाला गया है।
 शोधकर्ताओं के अनुसार, एक हजार बच्चों में से छह से दस जन्मजात हृदय रोग के साथ पैदा होते हैं। इनके हृदय की धमनियों और वाल्व में विकार हो सकता है। अमेरिका के सिनसिनाटी चिल्ड्रेन अस्पताल के शोधकर्ता निकोलस मैडसेन ने कहा, ‘हमें पता चला कि जन्मजात हृदय रोग जीवनभर बना रहता है। अध्ययन से जाहिर हुआ कि सामान्य लोगों की तुलना में इस समस्या के साथ जन्म लेने वाले बच्चों में जीवन में आगे चलकर तंत्रिका तंत्र संबंधी इस रोग का सबसे ज्यादा खतरा रहता है।
डिमेंशिया की बड़ी वजह है मस्तिष्क में बनने वाला यह पदार्थ  
डिमेंशिया की वजह का पता लगा लिया गया है। नए शोध का दावा है कि तंत्रिका तंत्र संबंधी यह बीमारी मस्तिष्क में बनने वाले यूरिया के विषैले स्तर पर पहुंचने के कारण हो सकती है। डिमेंशिया में स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है। शरीर में यूरिया प्रोटीन के टूटने से बनती है। ब्रिटेन की मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ग्रेथ कूपर ने कहा कि इस शोध से डिमेंशिया के नए उपचार की राह खुल सकती है।
यह शोध प्रो. कूपर के उन अध्ययनों के बाद किया गया है, जिसमें तंत्रिका तंत्र संबंधी दूसरे रोगों के अलावा टाइप-2 डायबिटीज के मेटाबोलिक जुड़ाव की पहचान की गई थी। नए शोध में इन रोगों का मस्तिष्क में यूरिया के स्तर और मेटाबोलिक प्रक्रिया से सीधे ताल्लुक का पता चला है। उम्र संबंधी डिमेंशिया के सात प्रकार होते हैं। इनमें एक हंटिंगटन भी है। 
from Dainik Jagran
Enquiry Form