+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

बेटे की चाह में लोग जा रहे नेपाल

health Capsule

नई दिल्ली । सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद देश में लिंगानुपात लगातार घट रहा है। हमारे देश में प्रति एक हजार लड़कों पर सिर्फ 940 लड़कियां हैं। इसका सीधा सा मतलब ये है कि 940 लड़कों को तो भविष्य में बहू मिल सकती है लेकिन बाकी बचे 60 लड़के कुंवारे रह जाएंगे। अगर भ्रूण हत्या और लड़कियों के खिलाफ बढ़ रहे अपराधों पर रोक नहीं लगाई गई तो निकट भविष्य में लिंगानुपात में अंतर और भी भयानक रूप ले सकता है। भारत में भ्रूण हत्या और प्रसव पूर्व लिंग निर्धारण गैर कानूनी है और इसमें दंड का प्रावधान भी है। कड़े कानून के बावजूद लिंग परीक्षण के कई मामले सामने आते रहते हैं। अब तो लोग इस कानून से बचने के लिए पड़ोसी देश नेपाल में जाकर लिंग परीक्षण धड़ल्ले से करा रहे हैं। भारत-नेपाल की खुली सीमा के चलते बॉर्डर पर गर्भवती महिलाएं लिंग परीक्षण के लिए आसानी से नेपाल चली जाती हैं। इसके बाद जैसे ही जांच में पता चलता है कि पेट में पल रहा भ्रूण लड़की है उसे गर्भ में मार दिया जाता है। इस तरह के काम करने वाली महिलाओं को ये क्यों नहीं समझ आता कि वो भी एक महिला हैं। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि महिला के पेट में जो बच्ची है वो उसे नहीं मारना चाहती है लेकिन परिवार का दबाव, माहौल और घर का वातावरण उस महिला को इस पाप में भागीदार बना देता है। महिला पर बेटी को गर्भ में ही मारने के लिए दबाव डाला जाता है।

from Dainik Jagran


Enquiry Form