+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

मरीजों के साथ चिकित्सक करें सकारात्मक व्यवहार

health Capsule
  • नई दिल्ली । इंटरनेट पर इस दौर में सूचना के भंडार की वजह से लोग जागरूक तो हो रहे हैं, लेकिन इससे चिकित्सकों के प्रति मरीजों में अविश्वास की भावना ने जन्म लिया है। कई बार यह चिकित्सकों के लिए काफी भारी पड़ जाता है जब मरीज इलाज की प्रक्रिया को अपने हिसाब से समझ लेते हैं, जिसके बाद वे चिकित्सक द्वारा किए जा रहे इलाज को गलत ठहराकर उनकी शिकायत भी संबंधित अथॉरिटी या कोर्ट में कर देते हैं। ऐसे में चिकित्सकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। क्लोव डेंटल की वार्षिक कॉन्क्लेव में इस विषय को उठाया गया। इस दौरान ब्रिगेडियर डॉ. अनिल कोहली, डॉ. रीना रंजीत, डॉ. राजीव चुघ, डॉ. सरनजीत ¨सह भसीन, सेवानिवृत्त मेजर जनरल पीएन अवस्थी, पवन दुग्गल, डॉ. अक्षय भार्गव, डॉ. लंका महेश, सीइओ अमर ¨सह मौजूद थे। तमाम लोगों ने अपनी बात रखते हुए कहा कि चिकित्सकों को आज के दौर से कदम ताल करते हुए आगे बढ़ना चाहिए। कई बार यह शिकायत मिलती है कि चिकित्सक मरीज से ठीक ढंग से बात नहीं करते हैं। सर्वप्रथम चिकित्सकों को अपने व्यवहार में परिवर्तन करना चाहिए, ताकि संस्थान को इसकी कीमत नहीं चुकानी पड़े। मरीज के साथ बातचीत के दौरान उन्हें अपनी बात समझाने का प्रयास करना चाहिए, जिससे मरीज को अपनापन महसूस हो और वह विश्वास के साथ अपनी परेशानी को चिकित्सक के समक्ष रख सकें। मरीज व चिकित्सक के रिश्ते में पारदर्शिता होनी चाहिए।

  •  

  • from Dainik Jagran
Enquiry Form