+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

सेवानिवृत्त डॉक्टरों व पैरामेडिकल कर्मचारियों की शरण में सरकार

health Capsule

 नई दिल्ली। अस्पतालों में स्थायी डॉक्टरों, नर्सो व पैरामेडिकल कर्मचारियों की नियुक्ति करने में विफल रही दिल्ली सरकार इन दिनों सेवानिवृत्त कर्मचारियों की शरण में है। इसलिए दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने कर्मचारियों की कमी दूर करने के लिए अस्पतालों में अनुबंध पर सेवानिवृत्त डॉक्टरों, नर्स व पैरामेडिकल कर्मचारियों की नियुक्ति करने का आदेश दिया है। हालांकि सरकार का यह विकल्प भी खास असरदार साहित होता नहीं दिख रहा है। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि चार माह में स्वास्थ्य विभाग तीन बार अस्पतालों को यह आदेश जारी कर चुका है। सरकार की ओर से जारी नए आदेश पर अमल के लिए अस्पतालों ने सेवानिवृत्त डॉक्टरों व अन्य कर्मचारियों की अनुबंध पर नियुक्ति प्रक्रिया शुरू कर दी है। सेवानिवृत्त कर्मचारियों की नियुक्ति कंसल्टेंट के पद पर की जाएगी।

इस बाबत दिल्ली सरकार ने सबसे पहले 4 दिसंबर 2015 को आदेश जारी किया था। इसके बाद वह इस साल 25 अगस्त से लेकर दिसंबर तक तीन बार अस्पतालों को रिमाइंडर भेजकर सेवानिवृत्त कर्मचारियों की नियुक्ति का आदेश दे चुकी है। स्वास्थ्य विभाग ने नए आदेश में कहा है कि यह देखा जा रहा है कि बार-बार के आदेश के बावजूद कुछ अस्पताल नियुक्ति प्रक्रिया शुरू करने में दिक्कत महसूस कर रहे हैं। इसलिए विभाग ने सभी अस्पतालों के लिए संयुक्त रूप से आवेदन आमंत्रित किया है। साथ ही सभी अस्पतालों में नोडल अधिकारी नियुक्त करने का निर्देश दिया है। कुछ अस्पताल वॉक-इन इंटरव्यू के जरिये भी नियुक्त कर रहे हैं।

दिल्ली सरकार के अस्पतालों में करीब 614 नर्सिग कर्मचारियों की कमी है। डॉक्टरों व पैरामेडिकल कर्मचारियों की भी भारी कमी है। स्वास्थ्य विभाग के आदेश के मद्देनजर बाबू जगजीवन राम अस्पताल ने नौ डॉक्टरों, 16 नर्सिग कर्मचारियों व अन्य कर्मचारियों के कुल 39 पदों पर सेवानिवृत्त कर्मचारियों की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की है। इसी तरह आचार्य भिक्षु अस्पताल में नौ डॉक्टरों सहित 25 कर्मचारियों, लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में दो डॉक्टरों, 10 नर्सिग कर्मचारियों सहित 28 कर्मचारियों व संजय गांधी स्मारक अस्पताल में 34 कर्मचारियों की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की गई है। अंबेडकर अस्पताल प्रशासन का कहना है कि एक डॉक्टर सहित आठ कर्मचारियों को नियुक्त कर स्वीकृति के लिए फाइल स्वास्थ्य विभाग के पास भेज दी गई है। इस पर अस्पताल प्रशासन को स्वीकृति का इंतजार है। इसके अलावा और भी डॉक्टरों व कर्मचारियों के पद रिक्त हैं। इसके लिए 5 जनवरी तक आवेदन करने का समय है।

दिल्ली सरकार के अस्पतालों में 755 डॉक्टरों की कमी

दिल्ली सरकार के अस्पतालों व डिस्पेंसरियों में डॉक्टरों, नर्सिग, पैरामेडिकल व अन्य कर्मचारियों की कमी के कारण स्वास्थ्य सुविधाएं चरमराई हुई हैं। डॉक्टरों के ही 755 पद खाली पड़े हैं। नर्सिग, पैरामेडिकल व अन्य कर्मचारियों के सैकड़ों पद खाली पड़े हैं। इसके मद्देनजर विभिन्न अस्पतालों में 2108 पदों पर सेवानिवृत्त कर्मचारियों को नियुक्त करने की पहल की गई है। इसमें 755 वरिष्ठ डॉक्टरों, पांच दंत चिकित्सकों, नर्सिग कैडर के 614, पैरामेडिकल व अन्य कर्मचारियों के 734 पद शामिल हैं।


Enquiry Form