+91 946-736-0600   |   Find us on:           

REGISTER   |    LOGIN

Latest News

Health News

health Capsule News

क्या रोस्टेड काजू बादाम और पिस्ता में कम हो जाते हैं पोषक तत्व?

काजू, बादाम, अखरोट, मूंगफली और पिस्ता आदि नट्स हमारे सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। अक्सर लोग इन नट्स को कच्चा खाने के बजाय रोस्टेड यानी भूनकर खाते हैं। रोस्टेड नट्स का स्वाद कच्चे नट्स से ज्यादा टेस्टी लगता है। मगर क्या रोस्ट करने के बाद भी ये नट्स पौष्टिक रह जाते हैं? जी हां, ज्यादातर लोग मानते हैं कि अगर नट्स को तेल या बटर में फ्राई न किया जाए, तो ये पौष्टिक होते हैं। आइए आपको बताते हैं एक्सपर्ट्स इस बारे में क्या राय रखते हैं।

नहीं कम होते पोषक तत्व

फूड न्यूट्रिश्निस्ट डॉ. राम आशीष कहते हैं कि अगर आपको भूनकर नट्स खाना पसंद है, तो इसमें कोई नुकसान नहीं है। नट्स को भूने जाने के बाद उसके मौजूदा स्वरूप बदल जाता है। यहां तक कि उसके स्वाद में भी बदला आता है। लेकिन जहां तक बात उसके पौष्टिक तत्व में बदलाव की है, तो ऐसा नहीं होता। विशेषज्ञों का मानना है कि नट्स भुनने के बाद उनके केमिकल कंपोजिशन में ही बदलाव होता है। इससे उनके रंग और स्वाद में फर्क नजर आने लगता है। चूंकि भूने जाने के बाद नट्स अपना पानी खो देता है, जिस वजह से ये खाने में क्रंची हो जाते हैं। इसके अलावा इसके फैट में कोई कमी नहीं आती। हां अगर आप इन्हें तेल या बटर में फ्राई करते हैं, तो नट्स में वसा की मात्रा बढ़ जाती है।

health Capsule News

गर्भावस्था के दौरान लिपस्टिक, मॉइश्चराइजर जैसे ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल खतरनाक: शोध

अगर आप गर्भावस्था के दौरान लिपस्टिक, मॉइश्चराइजर जैसे ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करती हैं, तो सावधान हो जाएं। ऐसा करना आपके होने वाले शिशु के लिए खतरनाक हो सकता है। ये बात हाल में हुए एक शोध में पता चली है।  अध्ययन में चेताया गया है कि गर्भावस्था के दौरान मॉइश्चराइजर और लिपस्टिक जैसे सौंदर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करने वाली महिलाओं के बच्चों को किशोरावस्था में ‘मोटर स्किल’ विकार का सामना करना पड़ सकता है। ये अध्ययन ‘एन्वायरॉमेंटल रिसर्च’ नाम की पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

शिशु के हाथ-पैर हो सकते हैं खराब

'मोटर स्किल विकार' एक ऐसी समस्या है, जिसमें व्यक्ति के हाथ और पैर की मांसपेशियां ठीक से काम नहीं करती हैं और व्यक्ति को चलने, डांस करने, खेल-कूद जैसी गतिविधियों में कई तरह की परेशानियां आती हैं। मेकअप प्रोडक्ट्स में थैलेट नाम का तत्व पाया जाता है, जो गर्भवती महिलाओं के लिए खतरनाक हो सकता है। इस अध्ययन में गर्भावस्था के आखिरी दिनों में थैलेट वाले ब्यूटी प्रोडक्ट्स (मॉइश्चराइजर, लिपस्टिक, लिप बाम आदि) का होने वाले शिशु पर असर के बारे में जांचा गया। ये जांच बच्चों की तीन, पांच एवं सात वर्ष की आयु के वक्त उनके मूत्र के नमूनों में इसके मेटाबॉलाइट (चयापचयी तत्व) के स्तरों को मापकर की गई।

health Capsule News

16 से 60 साल तक ऐसे करें अपनी स्किन की केयर, नहीं आएगा बुढ़ापा, बना रहेगा ग्लो

उम्र चाहे कोई भी हो लेकिन जब व्यक्ति अच्छी तरह से विकसित हो जाता है तो वह चाहता है कि उसके चेहरे पर चमक और रौनक हमेशा बनी रहे। अगर आप चाहते हैं कि आपका चेहरा हमेशा ग्लो करे या निखार बना रहे तो आपकी इसकी अच्छी तरह से केयर करने की जरूरत पड़ती है। इस बात में कोई दोराय नहीं है कि अक्सर 30 की उम्र के बाद चेहरे का ग्लो कहीं खो जा सकता है। जिसे मेनटेन करना मुश्किल लगता है। आज हम आपको ब्यूटी एक्सपर्ट पूजा गोयल से बात कर के स्किन केयर और ग्लो बढ़ाने की कुछ जरूरी और असरदार टिप्स बता रहे हैं।

health Capsule News

3 तरह के होते हैं पेट के अल्सर, कब्ज और जलन होते हैं शुरुआती संकेत

अगर इंसान का पेट सही है तो समझो वह राजा है। करीब 90 प्रतिशत बीमारियां इंसान को पेट की गड़बड़ी के कारण होती है। कोई भी बड़ी बीमारी होने से पहले कई बार संकेत देता है। अगर इन संकेतों को इंसान समझ गया तब तो स्थिति काबू में आ सकती है। लेकिन अगर आपने इन्हें इग्नोर किया तो यह एक वक्त के बाद गंभीर रूप ले लेते हैं। अक्सर पेट की गड़बड़िया खाने पीने में लापरवाही, योग और एक्सरसाइज के अभाव और बिगड़े लाइफस्टाइल के चलते होती हैं। अगर पेट सही नहीं होता तो पेट में अल्सर जन्म ले लेता है। इसके लक्षण शुरुआत में बहुत आम होते हैं लेकिन बाद में यह खतरनाक रूप ले लेता है। हालांकि पेप्टिक अल्सर की वजह से भी यह परेशानी हो सकती है। आपको बता दें कि पेट के अल्सर 3 तरह के होते हैं। आइए जानते हैं क्या है ये—

health Capsule News

सिर्फ 14 दिनों में करें पूरी बॉडी को डिटॉक्स, पेट के सभी रोग होंगे दूर

यदि किसी को अत्यधिक थकान और सुस्ती महसूस हो, एकाग्रता और ध्यान केेंद्रित करने में कठिनाई हो, बार-बार सर्दी-जुकाम, जोडों में दर्द या सिर दर्द होता हो, मुंह के स्वाद या शरीर की गंध में बदलाव महसूस हो, आंखों के नीचे डार्क सर्कल्स हों, त्वचा की रंगत खो जाए, वजन एकाएक बढऩे लगे, एक्ने, एग्जीमा जैसी तकलीफें होने लगें, कब्ज, गैस, पाचन में समस्या हो, हाई कोलेस्ट्रॉल या फैटी लिवर डिजीज से पीडित हो तो ये सब हॉर्मोनल असंतुलन के लक्षण भी हो सकते हैं। इनमें से एक या अधिक लक्षण दिख रहे हों तो इसका अर्थ यह है कि शरीर के डिटॉक्सिफिकेशन का समय आ चुका है।

Enquiry Form

Health Tips

health Capsule News

जिमिंग नहीं, घरेलू कामकाज से पा रहे हैं फिटनेस

 दिल्ली-एनसीआर में लगातार बढ़ रही बहुराष्ट्रीय कंपनियों की संख्या के कर्मचारी अब कई मायनों में विदेशी कल्चर अपनाने लगे हैं। पाश्चात्य सभ्यता का सकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिल रहा है। पार्टी कल्चर व मॉडर्न सोच के प्रभाव में जहां लोग अपनी जड़ों से दूर हो रहे थे, वहीं अब इन्हीं प्रभावों से लाइफस्टाइल में जो नए बदलाव देखने को मिल रहे हैं, उसमें न केवल लोग पैसे बचा रहे हैं बल्कि फिटनेस पाने की ओर भी आगे बढ़ रहे हैं। लोग घरों के काम काज स्वयं करके फिटनेस पाने की राह पर चल रहे हैं। कई कंपनियों में तो बाकायदा इस बात के लिए लोगों को प्रेरित भी किया जा रहा है।  

health Capsule News

बारिश के मौसम में जरूर बरतें ये सावधानियां

रिमझिम फुहारों का मौसम जल्द ही शुरू होने वाला है बावजूद इसके गर्मी और उमस के तेवर अभी तक कम नहीं हुए हैं।ऐसे में गर्मी और बारिश का यह मिला-जुला मौसम सेहत के लिहाज से बहुत ही संवेदनशील होता है।आपकी थोड़ी सी लापरवाही आपकी सेहत पर काफी भारी पड़ सकती है। ऐसे में ये सावधानियां अपनाने से आप भी इस मानसून को आप हैप्पी और सुरक्षित बना सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे... 

health Capsule News

समझ जाइए बढ़ गया है आपका कोलेस्ट्रोल लेवल

कोलेस्ट्रॉल एक तरह का फैट होता है, जिसका उत्पादन लिवर करता है। हमारे शरीर को इसकी जरूरत होती है, लेकिन अगर यह जरूरत के अनुसार ही बने तो ही हमारे स्वास्थ के लिए अच्छा रहता है। शरीर में इसकी मात्रा अधिक होने पर यह कोशिकाओं में जमना शुरू कर देता है जो हमारे शरीर में कई बीमारियों को न्योता देता है। रक्त में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का सीधा मतलब है दिल से संबंधित बीमारियां होना। कोलेस्ट्रॉल के बढ़ जाने से दिल का दौरा आने का खतरा बना रहता है। आइए जानते हैं शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण...

health Capsule News

कहीं खाने की एलर्जी से तो नहीं ऑटिज्म का संबंध

लंदन।एक शोध में कहा गया है कि ऑटिज्म के बच्चों में खाने से संबंधित एलर्जी आमतौर पर देखने को मिलती है। यूनिवर्सिटी ऑफ आयोवा में हुए अध्ययन में खाने से संबंधी एलर्जी के अलावा त्वचा और सांस से जुड़ी परेशानियों को भी शोध में शामिल किया गया।

health Capsule News

लक्षण दिखने से पहले ही पकड़ में आ जाएंगे 10 तरह के कैंसर

 लंदन । वैज्ञानिकों ने एक ऐसा तरीका ईजाद किया है जिससे लक्षण नजर आने से काफी पहले एक-दो नहीं कम से कम 10 तरह के कैंसर पकड़ में आ सकते हैं। विशेषज्ञ इसे कैंसर रिसर्च का होली ग्रेल करार दे रहे हैं।